समर्थक

बुधवार, 2 मार्च 2011

'न्यू ऋतंभरा भारत-भारती साहित्य सम्मान' से सम्मानित हुईं आकांक्षा यादव

युवा कवयित्री एवँ साहित्यकार सुश्री आकांक्षा यादव को हिन्दी साहित्य में प्रखर रचनात्मकता एवँ अनुपम कृतित्व के लिए छत्तीसगढ़ की प्रमुख साहित्यिक संस्था न्यू ऋतंभरा साहित्य मंच, दुर्ग द्वारा ''भारत-भारती साहित्य सम्मान-2010'' से सम्मानित किया गया है। गौरतलब है कि सुश्री आकांक्षा यादव की आरंभिक रचनाएँ दैनिक जागरण और कादम्बिनी में प्रकाशित हुई और फ़िलहाल वे देश की शताधिक पत्र-पत्रिकाओं में नियमित रूप से प्रकाशित हो रही हैं। नारी विमर्श, बाल विमर्श एवँ सामाजिक सरोकारों सम्बन्धी विमर्श में विशेष रूचि रखने वाली सुश्री आकांक्षा यादव के लेख, कवितायेँ और लघुकथाएं जहाँ तमाम संकलनों/पुस्तकों की शोभा बढ़ा रहे हैं, वहीँ आपकी तमाम रचनाएँ आकाशवाणी से भी तरंगित हुई हैं। पत्र-पत्रिकाओं के साथ-साथ अंतर्जाल पर भी सक्रिय सुश्री आकांक्षा यादव की रचनाएँ इंटरनेट पर तमाम वेब/ ई-पत्रिकाओं और ब्लॉगों पर भी पढ़ी-देखी जा सकती हैं।

आपकी तमाम रचनाओं के लिंक विकिपीडिया पर भी दिए गए हैं। 'शब्द-शिखर', 'सप्तरंगी-प्रेम', 'बाल-दुनिया' और 'उत्सव के रंग' ब्लॉग आप द्वारा संचालित/सम्पादित हैं। 'क्रांति-यज्ञ : 1857-1947 की गाथा' पुस्तक का संपादन करने वाली सुश्री आकांक्षा के व्यक्तित्व-कृतित्व पर वरिष्ठ बाल साहित्यकार डॉ. राष्ट्रबन्धु जी ने ‘‘बाल साहित्य समीक्षा‘‘ पत्रिका का एक अंक भी विशेषांक रुप में प्रकाशित किया है।

मूलत: उत्तर प्रदेश के एक कॉलेज में प्रवक्ता सुश्री आकांक्षा यादव वर्तमान में अपने पतिदेव श्री कृष्ण कुमार यादव के साथ अंडमान-निकोबार में रह रही हैं और वहाँ रहकर भी हिन्दी को समृद्ध कर रही हैं। श्री यादव भी हिन्दी की युवा पीढ़ी के सशक्त हस्ताक्षर हैं और सम्प्रति अंडमान-निकोबार द्वीप समूह के निदेशक डाक सेवाएँ पद पर पदस्थ हैं। एक रचनाकार के रूप में बात करें तो सुश्री आकांक्षा यादव ने बहुत ही खुले नजरिये से संवेदना के मानवीय धरातल पर जाकर अपनी रचनाओं का विस्तार किया है। बिना लाग लपेट के सुलभ भाव भंगिमा सहित जीवन के कठोर सत्य उभरें यही आपकी लेखनी की शक्ति है। उनकी रचनाओं में जहाँ जीवंतता है, वहीं उसे सामाजिक संस्कार भी दिया है।

सुश्री आकांक्षा यादव को इससे पूर्व भी विभिन्न साहित्यिक-सामाजिक संस्थानों द्वारा सम्मानित किया जा चुका है। जिसमें भारतीय दलित साहित्य अकादमी द्वारा ‘‘वीरांगना सावित्रीबाई फुले फेलोशिप सम्मान‘, राष्ट्रीय राजभाषा पीठ इलाहाबाद द्वारा ‘‘भारती ज्योति‘‘, ‘‘एस0एम0एस0‘‘ कविता पर प्रभात प्रकाशन, नई दिल्ली द्वारा पुरस्कार, मध्यप्रदेश नवलेखन संघ द्वारा ‘‘साहित्य मनीषी सम्मान‘‘ व ‘‘भाषा भारती रत्न‘‘, छत्तीसगढ़ शिक्षक-साहित्यकार मंच द्वारा ‘‘साहित्य सेवा सम्मान‘‘, ग्वालियर साहित्य एवँ कला परिषद द्वारा ‘‘शब्द माधुरी‘‘, इन्द्रधनुष साहित्यिक संस्था, बिजनौर द्वारा ‘‘साहित्य गौरव‘‘ व ‘‘काव्य मर्मज्ञ‘‘, श्री मुकुन्द मुरारी स्मृति साहित्यमाला, कानपुर द्वारा ‘‘साहित्य श्री सम्मान‘‘, मथुरा की साहित्यिक-सांस्कृतिक संस्था ‘‘आसरा‘‘ द्वारा ‘‘ब्रज-शिरोमणि‘‘ सम्मान, देवभूमि साहित्यकार मंच, पिथौरागढ़ द्वारा ‘‘देवभूमि साहित्य रत्न‘‘, राजेश्वरी प्रकाशन, गुना द्वारा ‘‘उजास सम्मान‘‘, ऋचा रचनाकार परिषद, कटनी द्वारा ‘‘भारत गौरव‘‘, अभिव्यंजना संस्था, कानपुर द्वारा ‘‘काव्य-कुमुद‘‘, महिमा प्रकाशन, दुर्ग-छत्तीसगढ द्वारा ’महिमा साहित्य भूषण सम्मान’, अन्तर्राष्ट्रीय पराविद्या शोध संस्था, ठाणे, महाराष्ट्र द्वारा ‘‘सरस्वती रत्न‘‘, अन्तज्र्योति सेवा संस्थान गोला-गोकर्णनाथ, खीरी द्वारा श्रेष्ठ कवयित्री की मानद उपाधि इत्यादि प्रमुख हैं। सुश्री आकांक्षा यादव को इस अलंकरण हेतु हार्दिक बधाईयाँ।

गोवर्धन यादव, संयोजक-राष्ट्रभाषा प्रचार समिति, छिन्दवाड़ा
103 कावेरी नगर, छिन्दवाड़ा (म.प्र.)-480001

13 टिप्‍पणियां:

Ram Shiv Murti Yadav ने कहा…

आकांक्षा यादव को 'न्यू ऋतंभरा भारत-भारती साहित्य सम्मान' प्राप्त होने पर ढेरों बधाई और आशीष.

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

बहुत बधाई हो आकांक्षाजी को इस सम्मान के लिये।

raghav ने कहा…

आकांक्षा मैडम जी की रचनाएँ अक्सर पढ़ते रहते हैं. वाकई वे एक प्रतिभाशाली रचनाकार हैं. इस सम्मान के लिए हार्दिक बधाइयाँ.

Shahroz ने कहा…

आकांक्षा यादव जी की रचनाधर्मिता लाजवाब और प्रेरक है..सम्मान और अलंकरण के लिए मुबारकवाद !!

Shahroz ने कहा…

आकांक्षा यादव जी की रचनाधर्मिता लाजवाब और प्रेरक है..सम्मान और अलंकरण के लिए मुबारकवाद !!

ZEAL ने कहा…

Congrats !

JHAROKHA ने कहा…

rashmi di
aakanxha ji ki kuchh rachnaye hamne padhi hain jo behad hi prabhavit karti hain .aapke dwara yah badi khush-khabri mili .aakanxha ji ko is visheshhh -samman keliye bahut bahut hardik badhai.vastav me vah is badhai ki haqdar hain.
punah aapko dhanyvaad is jankari ko dene ke liye---
poonam

Nirmesh ने कहा…

आकांक्षा यादव जी की रचनाधर्मिता लाजवाब और प्रेरक है..सम्मान और अलंकरण के लिए मुबारकवाद

Shyama ने कहा…

आकांक्षा जी, वाकई सशक्त और बेजोड़ लिखती हैं. उनकी और के.के. जी रचनाएँ तो हमें खूब पढने को मिलती हैं. उनके ब्लॉग के भी हम कायल हैं. उन्हें सम्मानित कर किसी को भी अच्छा लगेगा.

Shyama ने कहा…

आकांक्षा जी, वाकई सशक्त और बेजोड़ लिखती हैं. उनकी और के.के. जी रचनाएँ तो हमें खूब पढने को मिलती हैं. उनके ब्लॉग के भी हम कायल हैं. उन्हें सम्मानित कर किसी को भी अच्छा लगेगा.

: केवल राम : ने कहा…

आकांक्षा यादव जी को उनकी इस उपलब्धि के हार्दिक शुभकामनायें

Patali-The-Village ने कहा…

बहुत बधाई हो आकांक्षाजी को इस सम्मान के लिये।

SR Bharti ने कहा…

'न्यू ऋतंभरा भारत-भारती साहित्य सम्मान' आकांक्षाजी को प्राप्त होने पर ढेरों बधाई