समर्थक

रविवार, 28 दिसंबर 2008

एक युवा अधिकारी

जब मैंने सरकारी नौकरी ज्वाइन की
तो कुछ कर गुजरने का जज्बा था
हर फाइल को उसी दिन निपटाने का साहस
हर व्यक्ति को ठीक से सुनने का साहस
हर गलत व्यक्ति को दण्ड देने का साहस
पर धीरे-धीरे मुझे लगा
यही चीजें मेरे विरूद्ध जा रही हैं
लोगों को जनसंवेदनाओं से मतलब नहीं
बस अपने-अपने स्वार्थों से मतलब है
ट्रांसफर-पोस्टिंग, प्रमोशन और
उनकी गलतियों को अनदेखा करना
आखिरकार मेरे एक सीनियर ने भी समझाया
भाई ज्यादा उछल-कूद मत करो
जिन्दगी में समझौतावादी बनो
यहाँ कोई नहीं देखता कि आपने क्या किया
बस आपकी सी0आर0 देखी जाती है
उसे ही ठीक-ठाक रखने का प्रयास करो
मुझे अपने अन्दर कुछ टूटता सा नजर आया
वो सपने, जज्बे और सिविल सर्विस में चयन का जोश
सब कुछ ठंडा होता नजर आया
व्यवस्था मुझे चारों तरफ से कसती जा रही थी
और मैं अपने अन्दर के युवा अधिकारी को
एक नौकरशाह बाबू के रूप में बदलते देख रहा था।
एक टिप्पणी भेजें