समर्थक

शनिवार, 7 नवंबर 2009

युवाओं को आगे आना होगा....


आज जिस तेजी से देश के हालात बदल रहे है,वो चिंता का विषय है!चारों और अनिश्चितता और अराजकता .का वातावरण है!देश .विकास पथ पर अग्रसर है .किंतु लोग पुन:आदिम काल की और जा रहें है!कहीं पर दूसरी जाति में तो कहीं पर अपनी ही जाति में शादी करने पर युवा जोडों को मौत के घाट उतार दिया जाता है !कहीं पर महिला को ..डायन बता कर तो कहीं पर प्रेत बता कर मार दिया जाता है!नेता एक दूसरे की टांग खीचने में लगें है और नित नए नए मुद्दे उठा रहे है !!पूरे देश में एकता और अखंडता की बजाय ..क्षेत्रीय वाद हावी होता जा रहा है !ऐसे में युवाओं की जिम्मेवारी बनती है कि वे आगे आयें और देश को एक नई दिशा दें!!

युवा उर्जावान है ,नई सोच रखते है और सबसे बड़ी बात ज्यादा योग्य है ,बनिस्पत उन पुराने नेताओं के ,तो उन्हें आगे आना ही चाहिए !आज देश को युवा .सोच कि ही आवश्यकता है...!देश को आगे विकसित देश बनने में ये युवा ही एक बड़ी भूमिका निभा सकते है !तो आइये युवाओं आपका स्वागत है.....

एक टिप्पणी भेजें