फ़ॉलोअर

शनिवार, 11 दिसंबर 2010

नया जीवन

ख़ुदकुशी की असफल
कोशिश के बाद अस्पताल के
विस्तर पर मै पड़ा था
बगल में ही एक और मरीज
गंभीर रोग से पीड़ित था
असाध्य रोग से ग्रस्त
पर देखा उसके अन्दर
जीने की प्रबल लालसा
एक मै था की स्वस्थ होकर भी
स्वयं को काल के गाल में
भेजने को उद्यत था

एक खिडकी थी
ठीक उसके पीछे
रोज उसके पास बैठता था
वो आंखे मीचे
मै अक्सर कई बार उससे
बिस्तर बदलने को कहता
करके नए बहाने
वो हर बार टाल जाता

मै उदास उससे ही
बाहर के हाल चाल पूछता
वो हर बार मुझे
कुछ सुन्दर बताता
मेरे अन्दर जीने की
एक नई इच्छा भरता

प्रकृति के तमाम
सौंदर्य का दे हवाला
मेरी इक्षाशक्ति बढाकर उसने
मेरी मृत्यु को लगभग टाला
मुझे ठीक होते देख उसकी
खुशियों का नहीं था पारावार
जबकि उसकी तबियत
बिगड़ रही थी लगातार

एक दिन सुबह उठकर मैंने
आवाज सुनी नहीं उसकी
मेरे नीचे से जमीन सरकी
जिग्यासवास धीरे से उठकर
गया जब उसके बिस्तर
पर उसे मौन पाया
उसके खिड़की के पीछे
बस एक सख्त दीवाल पाया

हतप्रभ मैं कभी उसे
कभी उस दीवाल को देखता
सोचता
बेशक वो जीवन की जंग
भले ही हार गया
पर जाते जाते
अनजाने में ही सही
मुझे नया जीवन
वो दे गया

9 टिप्‍पणियां:

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

जीवन जीने का नाम,
जीते रहो सुबह शाम।

डॉ. मोनिका शर्मा ने कहा…

हतप्रभ मैं कभी उसे
कभी उस दीवाल को देखता
सोचता
बेशक वो जीवन की जंग
भले ही हार गया
पर जाते जाते
अनजाने में ही सही
मुझे नया जीवन
वो दे गया
ऐसी सकारात्मक सोच ही हर दिन जीने का नया उत्साह जगाती है.....

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

एक कहानी पर बुनी अच्छी कविता ...

www.navincchaturvedi.blogspot.com ने कहा…

भाई अमित कुमार जी एक बार फिर से आप को पढ़ने का अवसर मिला है| 'प्राण त्याग' को ले कर सिक्के के दोनो पहलुओं को अच्छी तरह विवेचित किया है आपने| बधाई|

Amit Kumar Yadav ने कहा…

बेशक वो जीवन की जंग
भले ही हार गया
पर जाते जाते
अनजाने में ही सही
मुझे नया जीवन
वो दे गया ...बहुत खूबसूरती से लिखा बधाई .

अनुपमा पाठक ने कहा…

जिजीविषा रहे... जीवन चलता रहेगा!
सुन्दर रचना!

प्रेम सरोवर ने कहा…

बहुत ही अच्छी प्रस्तुति। फिर आऊंगा। मेरे पोस्ट पर आपका स्वागत है।

Er. सत्यम शिवम ने कहा…

बहुत ही खुबसूरत रचना...मेरा ब्लागः"काव्य कल्पना" at http://satyamshivam95.blogspot.com/ मेरी कविताएँ "हिन्दी साहित्य मंच" पर भी हर सोमवार, शुक्रवार प्रकाशित.....आप आये और मेरा मार्गदर्शन करे......धन्यवाद

Shikha Kaushik ने कहा…

bhavuk karti rachna,is or bhi aakarshit karti ki jindi bahut amuly hai .iski kadr karna seekhna chahiye .mere blog ''shikhakaushik666.blogspot.com ''par bhi aaye .